शनिवार, 27 अक्तूबर 2007

सुरक्षित सेक्स और महाराष्ट्र

कल एक दोस्त ने एक न्यूज़ भेजी तो आज उसे आपका पन्ना में चेप रहा हूँ. खबर यह है कि महाराष्ट्र में सुरक्षित सेक्स करने के मामले यहाँ के मर्द महिलाओं की तुलना में मीलों आगे हैं। महाराष्ट्र में किए गए सर्वे से जो तथ्य सामने आए हैं उसके मुताबिक केवल 33 प्रतिशत महिलाओं को पता है कि पहली बार सेक्स करने से भी वह गर्भवती हो सकती हैं , जबकि पुरुषों में यह आंकड़ा 46.2 फीसदी है। सर्वे में यह बात भी सामने आई है कि अविवाहित महिलाओं में से केवल 55.4 फीसदी के कॉन्डम के बारे में सुना है , जबकि 95 प्रतिशत पुरुष इससे परिचित हैं। यही नहीं जितनी महिलाएं कॉन्डम के बारे में जानती हैं उनमें से केवल 18 प्रतिशत ही इसका सही उपयोग जानती हैं। विवाहित महिलाओं के मामले में भी यह आंकड़ा कोई खास उत्साह बढ़ाने वाला नहीं है। 39 फीसदी विवाहित महिलाएं ही यह जानती हैं कि सेक्स के दौरान इसके प्रयोग से गर्भवती होने से बचा जा सकता है। इनमें से केवल 9 फीसदी महिलाओं ने पहली बार गर्भवती होने से बचने के लिए कॉन्डम का इस्तेमाल किया है। इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ पॉपुलेशन साइंसेज के सर्वे के मुताबिक कंवारे मर्दों की बात करे तो 83 फीसदी पुरुष कॉन्डम के फायदे जानते हैं और शादीशुदा पुरुषों की बात करें तो यह आंकड़ा 90 फीसदी पहुंच जाता है। सर्वे में भाग लेने वाले 25 फीसदी लोगों ने माना कि उन्होंने अपने पहले बच्चे को कॉन्डम की मदद से टाला। सर्वे में विवाह से पहले और अपने जीवनसाथी से इतर सेक्स के बारे में भी सवाल किए गए थे। केवल 3 फीसदी महिलाओं ने शादी से पहले सेक्स करने की बात कबूल की , जबकि ऐसा करने वाले पुरुष 18 प्रतिशत निकले। 25 , 541 परिवारों में किए गए इस सर्वे में 3 फीसदी पुरुषों ने विवाह होने के बाद भी दूसरे महिलाओं से शारीरिक संबंध बनाने की बात मानी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें