शुक्रवार, 29 अगस्त 2008

हिंदी का बेहतर भविष्य: मार्क टली

ब्रिटिश मूल के वरिष्ठ पत्रकार मार्क टली ने कहा कि सरकारी अनुदान और सरकारी माध्यमों के दायरे से बाहर निकल कर हिंदी का बेहतर भविष्य है। टली जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी हिंदी का भविष्य भविष्य की हिंदी के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए यह कहा। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी के विरोध में आंदोलन से बेहतर होता कि हिंदी को मजबूत करने का आंदोलन किया जाता। टली ने कहा कि हिंदी को स्वत: विकसित होने देना चाहिए। इससे यह शक्तिशाली होगी। इसके अधिक से अधिक विकास के लिए हिंदी तथा अन्य भाषाओं में अधिक से अधिक अंतरभाषिक अनुवाद कार्य होने चाहिए।

2 टिप्‍पणियां:

  1. Wo to hoga hi...
    Hum aur Aaap dono jo lage hai bhavishy banane me.
    Anil Bhai Badiya kam kar rahe ho.
    Badhai!!!
    Avadhesh Akodia
    Jaipur
    Sampark-9887339743

    उत्तर देंहटाएं