गुरुवार, 11 मार्च 2010

ये होते हैं फ्रस्टेटेड टाइप के लोग

आज सुबह जब मैं दफ्तर आ रहा था तो एक घटना देखने को मिली। घटना ऐसी कि जिसे देखकर गुस्सा भी आया और फिर ये लगा कि आखिर दोषी किसे मानें। हुआ यूं कि एक ऑटो वाले ने एक कार वाले को साइड नहीं दिया और आगे बढ़ गया। बदले में उस बदमिजाज कार वाले का दिमाग गरम हो गया। एसी गाड़ी में बैठने के बाद भी गरम दिमाग। उसने आगे जाकर गाड़ी ऑटो के आगे लगा दी और उतरकर ऑटो वाले को गालियां देने लगा और जब इतने से भी उसका मन नहीं भरा तो ऑटो वाले को पीटना शुरू कर दिया। बेचारा ऑटो वाला पिटता रहा। समझ नहीं आ रहा था कि साइट न देना गुनाह है या उस आदमी का फ्रस्टेशन। मुझे तो लग रहा था कमबख्त वह आदमी घर से ही ऐसे निकला होगा। बीवी से झगड़ा हुआ होगा और नाश्ता नहीं किया होगा या फिर ऑफिस का कोई काम पेंडिंग होगा जिसे वो जल्दी पहुंचकर पूरा करना चाह रहा होगा और रास्ते की सारी अड़चने उसे गुस्सा दिला रही होंगी।

लेकिन ऐसे लोग ही खुद के लिए भी खतरा होते हैं। इसलिए इन्हें मेडिटेशन की जरूरत है। ईश्वर इन्हें सदबुद्धि दे।

6 टिप्‍पणियां:

  1. ईश्वर इन्हे सदबुद्धी दे ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो व्‍यक्ति भी गुस्‍से और मारपीट के द्वारा अपनी सत्ता स्‍थापित करना चाहता है, समझो वह हीन भावना का शिकार है और बेहद कमजोर इंसान है। छोटा पर अच्‍छा उदाहरण।

    उत्तर देंहटाएं
  3. उसका यह कृत्य बेशक गलत है. लेकिन आटो वाले ही सबसे अधिक खराब चलाते हैं और दुर्घटनाओं का कारण भी होते हैं. जब चाहे ब्रेक, जहां चाहे उधर मोड़ना बिना किसी सिग्नल के...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिल्कुल ठेक देखा आपने अनिल जी ...और रोड रेज की बढती घटनाएं ही इसका प्रमाण हैं
    अजय कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  5. aapke aalekh se sahmat.
    Dr.Smt.Ajit Gupta ki baat bilkul sahi hay.

    उत्तर देंहटाएं
  6. गुस्सा निकालने के लिए आदमी हमेशा अपने से कमजोर को ही क्यूं चुनता है। और फिर जोर-आजमाइश से तो किसी मसले का हल निकालने की बात कम से कम मेरे गले नहीं उतरती।

    उत्तर देंहटाएं